×

रियल एस्टेट- धन सृजन के लिए आपका सर्वश्रेष्ठ विकल्प

Torbit - September 19, 2023 - - 0 |

राकेश रेड्डी, डायरेक्टर, अपर्णा कंस्ट्रक्शन

अपनी अंतर्निहित स्थिरता और निवेश पर उम्मीद से कहीं बढ़कर रिटर्न प्रदान करने की संभावना के साथ रियल एस्टेट में निवेश  धन सृजन के लिए एक पसंदीदा विकल्प है।

इतना ही नहीं, निवेश के अन्य साधनों की अपेक्षा, रियल एस्टेट संपत्ति की कीमतों में बढ़ोतरी, कैश फ्लो एवं कर लाभ के द्वारा फायदा कमाने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। खास तौर पर मुद्रास्फीति के समय में, रियल एस्टेट मुद्रा की घटती क्रय शक्ति के विपरीत एक मूल्यवान सुरक्षा कवच के रूप में भी कार्य करता है। इसको अंतर्निहित मुद्रास्फीति-प्रतिरोधी गुणों को देखते हुए, रियल एस्टेट उन लोगों के लिए निवेश का एक आदर्श विकल्प बन चुका है जो लंबी अवधि में अपनी प्रॉपर्टी की कीमत में लगातार वृद्धि चाहते हैं।

प्रॉपर्टी की कीमत में वृद्धि होने पर उसे बेचकर लाभ कमाना रियल एस्टेट द्वारा धन सृजन का प्रचलित  तरीका है। गौरतलब है कि, आवासीय और वाणिज्यिक दोनों ही प्रकार के रियल एस्टेट की कीमतों में वृद्धि के कई कारक हैं। हालांकि, यह मुख्य रूप से प्रॉपर्टी की लोकेशन और उस स्थान पर इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास पर निर्भर करता है।

उदाहरण के तौर पर किसी आवासीय प्रॉपर्टी के आस-पास का परिवहन नेटवर्क, शैक्षिक सुविधाएं और मनोरंजक स्थानों जैसी आवश्यक सुविधाओं का जितना अधिक प्रसार होता है उस प्रॉपर्टी का मूल्य उतनी ही तेजी से बढ़ने लगता है।

प्रॉपर्टी की कीमत में वृद्धि के लिए घर का सुधार/नवीनीकरण भी उत्प्रेरक के रूप में काम कर सकता है। एक मकान मालिक यदि अपने घर की कीमत को बढ़ाना चाहता है तो  वह कई प्रकार के गृह सुधारों पर विचार कर सकता है, जैसे कि एक अतिरिक्त बाथरूम बनाना या रसोई में अत्याधुनिक स्मार्ट उपकरण लगाना।

लंबी अवधि में प्रॉपर्टी के मूल्यों पर मुद्रास्फीति का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। मुद्रास्फीति का रणनीतिक उपयोग रियल एस्टेट में धन सृजन के लिए एक शक्तिशाली माध्यम के रूप में काम कर सकता है। इस दृष्टिकोण का मूल इस तथ्य में निहित है कि प्रॉपर्टी के स्वामित्व से जुड़े प्रमुख खर्च, जैसे कि  मोर्टगेज भुगतान, संपत्ति कर, विस्तारित अवधि में भी स्थिर बने रहते हैं। यह स्थिर लागत  जब आम तौर पर मुद्रास्फीति के साथ आने वाले किराए और घर के मूल्यों में बढ़ोतरी के रुझान के साथ मिलती है, तो निवेशकों को अच्छी रिटर्न दिलवा सकता है।

एक सतत आय का स्रोत प्रदान करते हुए रियल एस्टेट धन सृजन का एक महत्वपूर्ण माध्यम साबित हुआ है। रियल एस्टेट में निवेश के द्वारा ग्राहकों को लाभ, ग्राहकों को किराए के रूप में कैश फ्लो और साथ ही डिविडेंड्स सहित विभिन्न रूपों में मिल सकता है।

आवासीय और वाणिज्यिक दोनों ही प्रॉपर्टीज से राजस्व का प्रमुख स्रोत आम तौर पर मूल किराये की आय द्वारा प्राप्त होता है। नियमित भुगतान, मुद्रास्फीति और बाजार की मांग का समायोजन करते हुए मकान मालिक किरायेदार से खर्चों की वसूली करता है और किराये की शेष राशि उसके आय का निर्माण करती है। यहां यह जरूरी है कि उस प्रॉपर्टी का चुनाव किया जाए जो ऐसे स्थान पर स्थित हो जहां आसानी से किरायेदार मिल सके।

रियल एस्टेट निवेश ट्रस्ट्स (आरईआईटीएस) रियल एस्टेट परिदृश्य के अंतर्गत एक आकर्षक निवेश का अवसर प्रदान करते हैं, जिसे आमतौर पर रियल एस्टेट परिसंपत्तियों द्वारा प्राप्त होने वाली नियमित आय का साधन माना जाता है। आरईआईटीएस या रीट्स एक पेशेवर रूप से प्रबंधित इकाई है जो निवेशकों के लिए आय उत्पन्न करने के लिए रियल एस्टेट संपत्तियों का  वित्तपोषण, स्वामित्व और संचालन करती हैं। रीट्स को खास तौर पर इस प्रकार संरचित किया गया है जिससे वे निवेशकों, प्रायोजकों से लेकर डेवलपर्स तक सभी हितधारकों को अच्छा लाभ प्रदान कर सके। म्यूचुअल फंड की तरह कार्य करते हुए, रीट्स रियल एस्टेट परिसंपत्तियों में निवेश करने के लिए खुदरा और संस्थागत निवेशकों दोनों ही से धन एकत्रित करते हैं। आम तौर पर ये संपत्तियां वाणिज्यिक प्रकृति की होती हैं, जैसे ऑफिसेज और शॉपिंग सेंटर्स, जिनका नियमित किराये की आय उत्पन्न करने का बेहतरीन ट्रैक रिकॉर्ड होता है।

रीट्स संपत्तियों को आमतौर पर दीर्घकालिक लीज द्वारा सुरक्षित किया जाता है, जो निवेशकों के लिए संभावित जोखिम को प्रभावी ढंग से कम करता है। इस तरह के दीर्घकालिक लीज रीट्स को आय के प्रवाह का एक विश्वसनीय और स्थिर स्रोत प्रदान करते हैं, जिससे निवेश पर रिटर्न का पूर्वानुमान बढ़ जाता है। निवेशकों के लिए सरल और सुविधाजनक तरीके से संपत्ति विविधीकरण करते हुए रीट्स संपत्ति निवेश के लिए बाजार को काफी व्यापक बनाता है और बड़ी संख्या में नए निवेशकों को आकर्षित करता है।

आय के अलावा  प्रॉपर्टी की कीमतों में वृद्धि के साथ ही रियल एस्टेट निवेश के लिए टैक्स में बचत के भी कई रास्ते खोलता है जो रियल एस्टेट द्वारा धन सृजन को और भी बढ़ोतरी प्रदान करते हैं। अभी इस वर्ष के केंद्रीय बजट में पेश किया गया सबसे महत्वपूर्ण लाभ संपत्ति से संबंधित करों का युक्तिकरण है। धारा 80 सी होम लोन की मूल राशि के पुनर्भुगतान के रूप में भुगतान  की गई राशि को कवर करती है। इस प्रकार प्रॉपर्टी खरीदने के लिए होम लोन टैक्स में बचत प्रदान करने वाला एक महत्वपूर्ण विकल्प हो सकता है। निर्माण पूरा होने और करदाता द्वारा पूर्णता प्रमाणन प्राप्त होने के बाद ही कर लाभ की अनुमति दी जाती है। धारा 24 बी किसी व्यक्ति द्वारा अपने गृह ऋण पर भुगतान किए गए ब्याज पर कर लाभ को कवर करती है और इस धारा के तहत स्टांप शुल्क और पंजीकरण शुल्क भी काटा जा सकता है। धारा 80 ईई  पहली बार घर खरीदने वालों के लिए होम लोन के ब्याज पर अतिरिक्त आयकर छूट प्रदान करती है। अचल संपत्ति के लिए दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ कर संरचना किसी अन्य संपत्ति को खरीदने के लिए संपत्ति बेचते समय धारा 54 के तहत पूंजीगत लाभ के रोलओवर के लाभ को सक्षम बनाती है। इसके अलावा, मूल्यह्रास संपत्ति मालिकों को हर साल संपत्ति के मूल्य का कुछ हिस्सा खारिज करने की अनुमति देता है, जिससे टैक्स का बोझ काफी कम हो जाता है।

Leave a Reply