×

बेंगलुरु, मुंबई, गुड़गांव-आवासीय किराये के लाभ के लिए बेहतरीन विकल्प

Torbit - May 24, 2024 - - 0 |
बेंगलुरु, मुंबई, गुड़गांव- आवासीय किराये के लाभ के लिए बेहतरीन विकल्प

शीर्ष शहरों में किराये के आवास की मांग में भारी वृद्धि होने की वजह से आवासीय रियल एस्टेट एक आकर्षक निवेश के विकल्प के रूप में उभरा है। साथ ही इन शहरों में प्रॉपर्टी का मूल्य भी तेजी से बढ़ रहा है और उसके साथ औसत किराये का मूल्य भी बढ़ रहा है – वहीं वार्षिक आरओआई निवेशक प्रॉपर्टी के मूल्य वृद्धि होने की वजह से प्रॉपर्टी में किए गए अपने पूंजी निवेश से कमाते हैं।

आवासीय प्रॉपर्टी से उच्च किराया प्राप्त करने के लिए बेंगलुरु, मुंबई और गुरुग्राम सबसे आकर्षक बाजार हैं। नवीनतम एनारॉक डेटा यह इंगित करता है कि पहले की तरह ही, आईटी इंडस्ट्रीज के प्रभुत्व वाला बेंगलुरु 2024 की पहली तिमाही में 4.45 प्रतिशत की किराये की प्राप्ति के साथ सूची में सबसे ऊपर है। महामारी के बाद आईटी कंपनियों के दुबारा ‘ऑफिस लौटें” के आह्वान के साथ किराये की मांग में मजबूती आई है जिसकी वजह से शहर के प्रमुख क्षेत्रों में किराये का मूल्य लगातार बढ़ रहा है। शहर की प्री-कोविड 2019 में, 3.6 प्रतिशत किराये के पैदावार की तुलना में, इस अवधि में किराये के पैदावार में 24 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है।

2024 की पहली तिमाही में किराये की 4.15 प्रतिशत पैदावार के साथ मुंबई शीर्ष शहरों में दूसरे स्थान पर है, जबकि 2019 में यह 3.5 प्रतिशत थी – इस प्रकार 19 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 2019 में 3.5 प्रतिशत के मुकाबले पिछली तिमाही में 4.1 प्रतिशत की किराये की उपज के साथ गुरुग्राम काफी पीछे है।

2019 में किराये की पैदावार

संतोष कुमार, वाइस चेयरमैन, एनारॉक ग्रुप ने काहा, कोविड-19 महामारी से पहले भारत में आवासीय किराये की पैदावार लगातार स्थिर रही थी और कई वर्षों तक उसका राष्ट्रीय औसत केवल प्रतिशत था। हालाँकिमहामारी के बाद कार्यालयों में काम फिर से शुरू होने के बाद किराये की मांग बढ़ने के साथकिराये की पैदावार भी तेजी से बढ़ रही है। बेंगलुरुगुरुग्रामपुणे और नोएडा सहित आईटी-प्रभुत्व वाले शहरों और एमएमआर में भी उनके किराये के मूल्यों और  पैदावार में काफी वृद्धि देखी गई है। भारत के शीर्ष शहरों में आवासीय किराये के मूल्यों में महामारी के बाद जबरदस्त वृद्धि हुई है और 2023 में इसमें साल-दर-साल 30 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि देखी गई है। 2023 की अंतिम तिमाही मेंअधिकांश शहरों में किराये के मूल्य स्थिर हो गए क्योंकि किराये की गतिविधि आमतौर पर वर्ष की अंतिम तिमाही में कम हो जाती है। हालांकिरेंटल रियल एस्टेट बाजार ने 2024 की पहली तिमाही में फिर से गति पकड़ी।”

शीर्ष 7 शहरों के प्रमुख इलाकों में, 2024 की पहली तिमाही के बीच आवासीय किराए में औसतन 4-9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह देखते हुए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि सामान्य वार्षिक वृद्धि 5-10 प्रतिशत है और निश्चित रूप से यह मकान मालिकों के लिए अच्छा संकेत है लेकिन किरायेदारों के लिए जीवन-यापन की मुद्रास्फीति चिंताजनक है।

भारत की सिलिकॉन वैली बेंगलुरु इस प्रवृत्ति में सबसे आगे है। एनारॉक के आंकड़ों के अनुसार, सरजापुर रोड और व्हाइटफील्ड में औसत किराये का मूल्य पिछली तिमाही की तुलना में 2024 की पहली तिमाही में 8 प्रतिशत बढ़ गया। सरजापुर रोड में, क्यु4 2023 में 1,000 वर्ग फिट के स्टैंडर्ड 2 बीएचके फ्लैट के लिए औसत मासिक किराया लगभग 31,600 रू था। यह क्यू1 2024 में बढ़कर लगभग 34,000 रू प्रति माह हो गया। इसी तरह, व्हाइटफ़ील्ड का औसत मासिक किराया 2023 की चौथी तिमाही में 30,200 रुपये से बढ़कर 2024 की पहली तिमाही में 32,500 रुपये हो गया – जो कि 8 प्रतिशत की बढ़ोतरी है। 2022 के अंत और 2024 की पहली तिमाही के बीच किराये के मूल्यों की तुलना से पता चलता है कि बेंगलुरु के शीर्ष इलाकों में 40 प्रतिशत और उससे अधिक की आश्चर्यजनक वृद्धि देखी गई।

यह प्रवृत्ति बेंगलुरु तक ही सीमित नहीं है; अन्य प्रमुख शहरों में भी किराये के मूल्यों में वृद्धि देखी गई है, हालांकि यह बेंगलुरु में देखी गई परिमाण के बराबर नहीं है। एनसीआर में, नोएडा के सेक्टर 150 में औसत किराए में 9 प्रतिशत और दिल्ली के द्वारका में 6 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई। मुंबई, चेंबूर और मुलुंड में किराये की दरों में 4 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई। चेंबूर में, क्यू1 2024 में औसत किराये की दरें 2023 की चौथी तिमाही में 60,000 रुपये प्रति माह के मुकाबले 62,500 रुपये प्रति माह हो गई।

कोलकाता के राजारहाट में इस अवधि में सबसे कम वृद्धि (3 प्रतिशत) देखी गई – क्यू4 2023 में लगभग 18,500रू /महीने क्यू4 2023 मे INR 19,000/माह। चेन्नई और मुंबई दोनों में, किराए में 4 प्रतिशत की अधिक वृद्धि हुई, जबकि हैदराबाद में,हाईटेक सिटी और गाचीबोवली जैसे प्रमुख इलाकों में प्रत्येक तिमाही में किराए में 5 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई।

औसत स्टैंडर्ड 2 बीएचके 1,000 वर्ग फिट घर के लिए किराया

Leave a Reply