×

2024 चुनाव: रियल्टी के लिए पोल पोजीशन!

Torbit - April 27, 2024 - - 0 |
Positive Impact of Real Estate Growth on Polls

2014 और 2018 के आम चुनावों में निर्णायक मतदान परिणामों ने राजनीतिक स्थिरता को बढ़ावा दिया जिसने सुधारों को आगे बढ़ाने में मदद की और आवासीय रियल एस्टेट बाजार को बढ़ावा मिला। आज, 2024 के आम चुनावों से पहले भी एक और निर्णायक मतदान के स्पष्ट संकेत मिल रहे हैं, जो आवासीय क्षेत्र को फिर एक बार शिखर पर पहुंचाने की संभावनाओं को उज्ज्वल कर रहे हैं।

आम चुनाव और आवासीय रियल एस्टेट का आपस में गहरा संबंध है – कम से कम, पिछले दो चुनावी वर्षों के रुझानों से संबंधित डेटा से मिले संकेत तो यही बताते हैं। 2014 और 2019 के चुनावी वर्षों में घरों की बिक्री ने नए शिखर हासिल किए। 2014 में, शीर्ष 7 शहरों में बिक्री लगभग 3.45 लाख यूनिट तक पहुंच गई, जबकि नए लांच लगभग 5.45 लाख यूनिट के साथ अब तक के सर्वोच्च स्तर पर थे। इसी तरह, 2019 में, घरों की बिक्री लगभग 2.61 लाख यूनिट तक पहुंच गई, जबकि 2016 और 2019 के बीच आवासीय रियल एस्टेट बाजार में सुस्ती के बाद नए लांच बढ़कर लगभग 2.37 लाख यूनिट हो गए।

2016 और 2017 में शुरू किए गए डिमोनेटाइजेशन , रेरा और जीएसटी जैसे प्रमुख संरचनात्मक सुधारों ने भारतीय रियल एस्टेट को एक अनियंत्रित एवं अनियमित सीमा से एक अधिक संगठित और विनियमित बाजार में बदल दिया। तब से अधिकांश फ़्लाय-बाय-नाइट डेवलपर्स बाजार से बाहर हो गए हैं और संगठित कंपनियां मज़बूती से उभरी हैं, जिससे घर खरीदने वालों के आत्मविश्वास में भी काफी वृद्धि हुई है।  अनुज पुरी, चेयरमैन, एनारॉक ग्रुप कहते हैं, “2014 और 2019 में आवासीय बाजार के अभूतपूर्व प्रदर्शन को आगे बढ़ाने वाला एक प्रमुख कारक निर्णायक चुनाव परिणाम रहे होंगे। घर खरीदारों के लिए, यह घर खरीदनें के फैसले के लिए आत्मविश्वास हासिल करने वाला साबित हुआ।”

इन चुनावी वर्षों में मूल्य प्रवृत्तियों की जांच करने पर, यह सामने आता है कि  2019 की तुलना में 2014 बेहतर वर्ष था। एनारॉक के आंकड़े बताते हैं कि 2014 में, शीर्ष 7 शहरों में कीमतें पिछले वर्ष की तुलना में औसतन सालाना 6 प्रतिशत से अधिक बढ़ीं – 2013 में 4,895 रुपये प्रति वर्ग फीट से बढ़कर 2014 में 5,168 रुपये प्रति वर्ग फीट हो गईं। 2019 की बात करें तो औसत कीमतें सालाना केवल 1 प्रतिशत बढ़ीं – 2018 में 5,551 रुपये प्रति वर्ग फीट से बढ़कर 2019 में 5,588 रुपये प्रति वर्ग फीट हो गईं।

भारत के आवासीय रियल एस्टेट क्षेत्र में 2016 से 2019 के बीच बड़ी मंदी देखी गई। 2016 और 2017 के बीच नीतिगत सुधारों के कारण बाजार में आए बड़े बदलाव के बाद 2018 में आईएल एंड एफएस मुद्दे के बाद एनबीएफसी  संकट आया। इससे आवासीय रियल एस्टेट उद्योग में काफी उथल-पुथल मच गई। 2019 के बाद से, पुनरुद्धार की पहल हरे अंकुर  की शुरुआत 2020 में महामारी के कारण अस्थायी रूप से कम हो गई थी। इसके बाद, सभी उम्मीदों के विपरीत, 2021 से आवासी बाजार में तेजी आई और यह गति आज भी जारी है।

वर्तमान चुनावी वर्ष –2024 भारतीय आवास बाजार के लिए कैसा रहेगा?

पुरी कहते हैं, “अभी जो स्थिति है, उसके अनुसार सभी संकेत 2024 में आवासीय बाजार के पक्ष में हैं, और यह साल आवास बिक्री और नए लॉन्च में एक और शिखर स्थापित कर सकता है।” “चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद भी शहरों में आवास की मांग में तेजी बनी हुई है और घर खरीदने वाले रियल एस्टेट बाजार को लेकर बेहद आशावादी बने हुए हैं।”

 2024 में नये शिखर पर पहुंचने के पक्ष में कारक:

  • अधिकांश रियल एस्टेट विनियामक सुधार और मानदंड पहले से ही लागू हैं, तथा सबसे खराब स्थिति पीछे छूट चुकी है।
  • आईएमएफ जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने अगले कुछ वर्षों के लिए भारत के लिए मजबूत जीडीपी वृद्धि की भविष्यवाणी की है। भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है, और इसका अप्रत्यक्ष रूप से रियल एस्टेट बाजार पर सकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है।
  • मुद्रास्फीति फिलहाल काफी नियंत्रण में है, जिससे घर खरीदने वालों में वित्तीय आशावाद और आत्मविश्वास बढ़ा है।
  • घर खरीदने वालों की बढ़ती मांग के आधार पर, डेवलपर्स ने पिछले एक साल में ज़मीन के कई सौदे पूरे किए हैं, और उनकी बैलेंस शीट ज़्यादातर साफ़-सुथरी हैं। अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड और बेहतर बैलेंस शीट वाले कई बड़े डेवलपर्स अपनी मौजूदगी बढ़ाने के लिए नए क्षेत्रों में कदम रख रहे हैं।

Leave a Reply